सेना भर्ती घोटाला: 1 करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी, 5 गिरफ्तार

जांच में पता चला कि रिटायर्ड हवलदार अनिल कुमार ओल्ड ग्रैंड बुगलो (ओजीबी) नंबर 25 में किराए पर रह रहे थे उन्होंने फैजाबाद छावनी के अंदर कई सेना में भर्ती होने की चाहत रखने वाले जवानों से धोखाधड़ी की.


नई  दिल्ली

सेना भर्ती घोटाले में एक रिटायर्ड हवलदार समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. भर्ती से जुड़े इस घोटाले में सेना का एक रिटायर्ड हवलदार दलाली और ठगी से जुड़ी गतिविधियों में शामिल था.

दरअसल, अप्रैल-मई 2018 में सेना के खुफिया विभाग को इनपुट मिला था कि सेना का एक रिटायर्ड हवलदार सेना में भर्ती कराने के लिए लोगों को ठग रहा है. वहीं हवलदार ने इस दौरान करीब 1 करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी की.

जांच में पता चला कि रिटायर्ड हवलदार अनिल कुमार ओल्ड ग्रैंड बुगलो (ओजीबी) नंबर 25 में किराए पर रह रहे थे उन्होंने फैजाबाद छावनी के अंदर कई सेना में भर्ती होने की चाहत रखने वाले जवानों से धोखाधड़ी की. आरोपी हवलदार ने वादा किया था कि फैजाबाद के आसपास होने वाले रिक्रूटमेंट में वह जवानों की भर्ती कराएगा.

हवलदार धोखाधड़ी के अलावा फर्जी दस्तावेज बनाने का भी आरोपी है. भर्ती में असफल रहने पर जब अभ्यर्थी अपने असली दस्तावेज और पैसे मांगते तो हवलदार धमकी देकर मना कर देता था. आरोपी अभ्यर्थियों के असली दस्तावेजों को जमा कर लेता और जब लोग अपने दस्तावेज वापस मांगते तो देने से इनकार कर देता.

आरोपी का दावा था कि उसकी पोस्टिंग कई जगह हो चुकी है और लंबा सैन्य अनुभव रहा है. आरोपी हवलदार ने एक करोड़ से ज्यादा की ठगी की वारदात को अंजाम दिया है.

यह मामला कैंटोनमेंट पुलिस स्टेशन, फैजाबाद के संज्ञान में नवंबर/दिसंबर 2018 के दौरान आया था. घटना के सामने आने के बाद एसएसपी फैजाबाद की देखरेख में एक संयुक्त जांच शुरू की गई थी.

मामले की जांच के लिए कुछ पीड़ितों से संपर्क भी किया गया था. पीड़ितों में से कुछ ने हिम्मत दिखाकर सेवानिवृत्त गैर-कमीशन अधिकारी (एनसीओ) और उनके सहयोगियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई.

जब आरोपी को पुलिस कार्रवाई की भनक लगी तो वह लंबे समय तक पुलिस से छिपा रहा. पुलिस ने सघन जांच चलाकर कार्रवाई की तो कई गिरफ्तार हुए. सभी आरोपी रिटायर्ड हवलदार के परिवार के ही सदस्य हैं, जिनमें पत्नी और बेटे भी शामिल हैं. पुलिस मामले की विस्तृत जांच कर रही है.

source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *